साप्ताहिक राशिफल: तुला,वृश्चिक और धनु राशि को इन उपायों से मिलेगी कामयाबी

    16-Dec-2019
|
 
newsphrase.com-rashifal
 
साप्ताहिक राशीफल ( 16-22 दिसंबर 2019 )
आचार्य पं सोमेश शर्मा जी द्वारा।
 
 
तुला - इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके सप्तम भाव में होगा। उसके बाद अष्टम, नवम भावों से होते हुए सप्ताह के अंत में आपकी राशि के दशम भाव में गोचर कर जाएगा। इसके साथ ही इस सप्ताह शुक्र का गोचर भी आपके चतुर्थ भाव में होगा। जिस वक़्त सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा का गोचर सप्तम भाव में होगा उस वक़्त आपका रुझान किसी विपरीत लिंगी व्यक्ति की ओर अधिक होगा जिससे आपको किसी मित्र की मदद से बात करने का अवसर भी मिल सकता है। घर-परिवार में किसी कार्यक्रम का आयोजन भी सम्पन्न हो सकता है, जिससे आपको अच्छे-अच्छे पकवान खाने का अवसर भी मिलेगा। इसके बाद अष्टम भाव में चंद्र के विराजमान होने से आप घर और अपनी सुख-सुविधाओं की वस्तुओं पर अपना धन खर्च करेंगे। जिससे आपके सुख-साधनाओं में तो वृद्धि होगी लेकिन इसका लाभ उठाने के लिए आपको अपनी जेब ढीली भी करनी होगी। निजी जीवन में कोई अज्ञात भय आपको मानसिक परेशानी दे सकता है, इसलिए सावधान हो जाएं।
 
इसके बाद सप्ताह के मध्य में नवम भाव में चंद्र के गोचर से आप यदि अपने कार्य क्षेत्र में परिवर्तन या बदलाव करने का सोच रहे थे तो उसके लिए समय अच्छा रहेगा। छात्रों को इस समय जटिल विषयों को समझने में ज्यादा परेशानी नहीं आएगी। आमदनी के लिहाज से समय अच्छा रहेगा और आप नई योजना के विस्तार के लिए कार्य करते भी दिखाई देंगे। इसके बाद अंत में चंद्र के दशम और शुक्र के चतुर्थ भाव में विराजमान होने से आपको अधिक काम की जगह कम काम से ही अधिक मुनाफ़ा कमाने की ओर प्रयास करना होगा। अर्थात आपको स्मार्ट वर्क करने की ज़रूरत होगी। पारिवारिक जीवन अच्छा रहेगा और आप कार्य स्थल पर अपने अनुभव से अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। वहीं शुक्र आपको घर से दूर करेगा, जिससे आपको शुरुआत में कुछ दिक्कतें आ सकती हैं। यदि आप कोई नया घर या वाहन लेने का विचार कर रहे थे तो उसमें सफलता मिलेगी। माता-पिता से संबंधों में सुधार आएगा और किसी कार्य को पूरा करने में वो आपकी मुमकिन सहायता भी कर सकते हैं।
 
उपाय: घर की महिलाएं जैसे: मां, बहन, चाची, मौसी, बुआ आदि को वस्त्र भेट करें।
 
 
वृश्चिक - इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके षष्टम भाव में विराजमान होंगे, जो इसके बाद आपके सप्तम, अष्टम भाव और सप्ताह के अंत में आपकी राशि के नवम भाव में गोचर करेंगे। इसके साथ ही इस सप्ताह शुक्र देव का गोचर भी आपकी राशि के तृतीय भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र के षष्ठम और सप्तम भाव में होने से आपका किसी से विवाद हो सकता है। इस दौरान खुद को किसी भी तरह के विवाद या झड़गे से दूर रखें अन्यथा मामला कोर्ट-कचहरी तक भी पहुंच सकता है, जिससे आपका अच्छा-खासा धन भी खर्च होगा। शत्रु पक्ष आपको परेशान करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ेगा लेकिन आप उन्हें हर कदम पर पराजित करेंगे। कार्य स्थल पर ख़ास तौर से बिज़नेस पार्टनर-शिप या साझेदारी में व्यापारी कर रहे जातकों को आपसी तालमेल से कोई बड़ा लाभ होगा। इस लाभ से आप दोनों भविष्य के लिए नई-नई योजनाओं पर काम करेंगे।
 
इसके बाद सप्ताह के मध्य से लेकर अंत तक चंद्र के अष्टम और नवम भाव में विराजमान होने से आपकी माता जी को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है। इसके साथ ही अगर समय रहते उनका इलाज नहीं कराया गया तो हॉस्पिटल तक की नौबत आ सकती है। इसमें आपको अपना धन भी खर्च करना पड़ सकता है। ससुराल पक्ष से मुलाक़ात करने का अवसर मिलेगा जिससे कुछ भेट भी मिलने की उम्मीद है। माता पिता से विवाद होने के भी योग बन रहे हैं। जिससे आपको और उन्हें दोनों को मानसिक तनाव होगा। कार्यक्षेत्र के लिहाज़ से समय अनुकूल है, लेकिन इस दौरान ध्यान रखें कि घर का कोई विवाद अपने काम के आड़े न आने दें। वहीं इस सप्ताह के अंत में शुक्र देव भी आपके तृतीय भाव में गोचर कर जाएंगे जिस दौरान आपको मानसिक शांति की अनुभूति होगी। इस समय आप खुद को अपना समय देने और अपने आप को खज़ाने-सवारने के ऊपर धन भी ख़र्च करेंगे। पारिवारिक जीवन भी अच्छा रहेगा और किसी यात्रा पर जाने का योग बनेगा।
 
उपाय: मंदिर में जाकर भगवान को पुष्प चढ़ाएं और संभव हो तो चने की दाल ज़रूरतमंदों को दान करें।
 
 
धनु - सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा सबसे पहले आपके पंचम भाव में होंगे, फिर इसके बाद आपके षष्टम, सप्तम भाव से होते हुए सप्ताह के अंत में आपके अष्टम भाव में प्रवेश कर जाएंगे। इसके साथ ही इस सप्ताह शुक्र देव का गोचर भी आपकी राशि के द्वितीय भाव में होगा। चंद्र का गोचर आपके पंचम भाव में होगा उस वक़्त आपको अपनी रचनात्मकता बढ़ने के कई अवसर मिलेंगे जिससे आपकी रूचि काम में भी बढ़ पाएगी और अपनी इस कला का प्रदर्शन आप अपने कार्यो में करते हुए लाभ उठा सकेंगे। दांपत्य जातकों के लिए समय उतार-चढ़ाव भरा रहेगा क्योंकि संभावना है कि आपके और आपकी संतान के बीच किसी बात को लेकर मतभेद की स्थिति बने जिससे आपको न चाहते हुए भी कोई कड़ा निर्णय लेना पड़े। इसके बाद षष्टम भाव में चंद्र के विराजमान होने से आपको सेहत में कुछ गिरावट महसूस हो सकती है। इसलिए अपने खान-पान का ध्यान रखें और तले पदार्थों से परहेज करें। अन्यथा आपका धन डॉक्टर की फ़ीस आदि में खर्च हो सकता है।
 
इसके बाद सप्ताह के मध्य में सप्तम भाव में चंद्र के विराजमान होने से कार्य क्षेत्र में आपको पहले से अधिक प्रयास करने होंगे तभी आपको सफलता प्राप्त हो सकेगी। जो लोग साझेदारी में व्यवसाय करते हैं उन्हें किसी भी विवाद को खुद से दूर रखने की ज़रूरत होगी अन्यथा साथी के साथ विवाद होने से आर्थिक नुक्सान हो सकता है। इसके बाद सप्ताह के अंत में चंद्र और शुक्र के गोचर से आपका मन इतिहास और पूर्व के रहस्यों को जानने की ओर अधिक लगेगा। हालांकि आपको भाग्य का साथ मिलेगा लेकिन बावजूद इसके किसी भी कार्य को भाग्य के भरोसे छोड़ने से बचे। निवेश करने के कई अवसर प्राप्त होंगे लेकिन इस दौरान किसी अनुभवी शख्स से मदद के बाद ही निवेश करना आपको फायदा देगा।
 
उपाय: केले के वृक्ष को जल अर्पित करें और हल्दी का तिलक करें।