वास्तव में है क्या ये नागरिकता संशोधन कानून 2019 ?

    21-Dec-2019
|

newsphrase.com-what is caa 2019 
 
 
क्या है नागरिकता संशोधन कानून 2019 ? 
 
दिसंबर की शुरुआत में मोदी सरकार के गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन बिल (CAB) सदन में पेश किया था, जो दोनों सदनों (लोकसभा और राज्यसभा) में काफी चर्चा के बाद से पास हुआ और उसके बाद राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही 12 दिसंबर 2019 को ये नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 (CAA 2019) बन चुका है।
नागरिकता संशोधन कानून 2019 के तहत भारत के तीन पड़ोसी देशों पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए अल्पसंख्यक शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी, जिससे वे भारत में अपने धर्म का स्वतंत्रता से पालन करते हुए एक सम्मानजनक जीवन व्यतीत कर सकेंगे।
 
 
कौन हैं अल्पसंख्यक शरणार्थी ?
 
पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में अल्पसंख्यक धर्मों के वे लोग इन शरणार्थियों में शामिल हैं, जो धर्म के आधार पर हुए भेदभाव, अभद्र व्यवहार, हीन भावना और धर्मांतरण जैसे उत्पीड़न के शिकार हैं। इन तीनों देशों में हिन्दू, सिक्ख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई धर्मों के लोग अल्पसंख्यक हैं।
 
 
मुस्लिमों को क्यों नहीं किया गया शामिल ?
 
पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश तीनों देशों में इस्लाम को मानाने वाले यानि मुस्लिम अनुयायियों की जनसंख्या मेजोरिटी में है अर्थात वे इन देशों में धार्मिक आधार पर बहुसंख्यक हैं। पाकिस्तान और अफगानिस्तान में इस्लाम आधिकारिक तौर पर राज्य का धर्म माना गया है, जबकि बांग्लादेश की जनसंख्या में 90 प्रतिशत से ज़्यादा लोग इस्लाम को मानते हैं और भारत में लागु हुआ नागरिकता संशोधन कानून 2019 इन तीनों पड़ोसी देशों के सिर्फ धार्मिक अल्पसंख्यकों को ही भारत की नागरिकता का पात्र मानता है। यही कारण है कि मुस्लिम अनुयायियों को इस कानून में शामिल नहीं किया गया है।
 
 
किन लोगों के लिए है ये कानून ?
 
नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 सिर्फ अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए है। इन देशों के छः धर्म के अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता मिलने का रास्ता इससे खुला है। ये छः धर्म हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई और पारसी हैं। इसके तहत 31 दिसंबर, 2014 या उससे पहले भारत आने वाले पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के छः धर्मों के अल्पसंख्यकों को घुसपैठिया नहीं माना जाएगा, बल्कि उन्हें शरणार्थी मानते हुए भारत के नागरिक के तौर पर स्वीकार किया जाएगा।
 
CAB = Citizenship Amendment Bill
CAA = Citizenship Amendment Act